rain-started-but-40-drain-and-65-drain-cleaning-remained-irrigation-department-set-target-till-june-25-but-work-difficult

वादा टूटेगा, इस बारिश में शहर डूबेगा:बारिश शुरू लेकिन 40% ड्रेन व 65% नाले की सफाई बाकी, सिंचाई विभाग ने 25 जून तक रखा लक्ष्य, पर कार्य मुश्किल

ब्रेकिंग न्यूज़ राजनीति सोनीपत

20 साल बाद इस बार फिर जून में मानसून की दस्तक हुई है। जून मंे ही 24 एमएम बरसात जिले में हो चुकी है। लेकिन प्रशासनिक तैयारी अभी अधूरी है। सिंचाई विभाग 25 जून के बाद तक ड्रेनों की सफाई कार्य पूरा कर पाएगा। नगर निगम भी 60 प्रतिशत सफाई अभी होने का दावा कर रहा है, लेकिन ग्रांउड पर हालात अभी चिंताजनक हैं। इसके अनुसार भी 40 फीसदी ड्रेन की सफाई बाकी है।

ऐसे ही 45 फीसदी ड्रेन की साफ हुए हैं। सारंग रोड अंडरब्रिज के नीचे वर्षों से निकासी के लिए मोटर लगाने की बात की जा रही है, जाे आज तक पूरी नहीं हो पाई है। शनिमंदिर से आगे पुरखास रोड पर जमा होने वाली पानी की निकासी के लिए प्रस्तावित नाले से आज भी पूरी निकासी नहीं हो पाती है।

शनि मंदिर अंडरब्रिज से पानी निकासी के लिए बनाए गए एमपीएस के गड्ढे में कचरा ही कचरा भरा है। जो बरसात तेज होने पर बड़ी मुसीबत खड़ी कर सकते हैं। गुरुवार सुबह भी हल्की बरसात हुई। अभी आसमान में रह-रहकर बादल छा रहे हैं। बाढ़ नियंत्रण शाखा ने अपने स्तर पर कार्रवाई जरूर शुरू कर दी है। जिसके तहत 24 घंटे कार्य करने वाले कंट्रोल रूम की स्थापना की गई है।

दिन-रात की शिफ्ट अनुसार कर्मियों की तैनाती की गई है। बाढ़ प्रबंधन शाखा ने कंट्रोल ऑर्डर जारी कर दिया है। इसके तहत सिंचाई विभाग, जनस्वास्थ्य विभाग, सिविल डिफेंस, सभी एसडीएम, आर्मी, एनडीआरएफ और सीआरपीएफ के जवानों सहित वन विभाग को अलर्ट कर दिया गया है।

शनि मंदिर अंडरब्रिज के एमपीएस भी साफ नहीं

शहर में बरसात होने पर सबसे बड़ी मुसीबत शनि मंदिर अंडरब्रिज बनता है। पानी निकासी नहीं होने के कारण तालाब का रूप ले लेता है। जिसकी वजह से शहर के एक हिस्से से दूसरे हिस्से में जाना बाधित हो जाता है। यहां नगर निगम पानी निकासी के लिए बनाए गए एमपीएस के गड्ढे की सफाई का कार्य नहीं कर सका है। इसमें पांच टन से ज्यादा कचरा भरा पड़ा है। गुरुवार को मामूली बरसात में भी शनि मंदिर अंडरब्रिज के नीचे जलभराव हो गया।

सारंग रोड अंडरब्रिज से जल निकासी रुकी है

सारंग रोड रेलवे अंडर ब्रिज लो-लाइन में होने की वजह से यहां से पानी निकासी सही तरीके से नहीं हो पाती है। तीन साल से प्लानिंग हो रही है कि यहां एक हौदी बनाकर मोटर से पानी निकासी की जाएगी। अभी भी यहां व्यवस्था अधूरी है।

रोहतक रोड आरओबी पर निकासी समाधान नहीं

रोहतक रोड नेशनल हाईवे के शहर में आरओबी पर इंडस्ट्रीज एरिया के सीवर का पानी ओवरफ्लो होकर भर जाता है। बरसात मंे तो यहां वाहनों का निकलना मुश्किल हो जाता है। डीसी तक एनएचआई और नगर निगम को पत्र लिखकर समाधान के निर्देश दे चुके। एनएचआई अधिकारी निकासी नाला बनाने का दावा कर चुका। एनएचआई ने साढ़े तीन करोड़ सीमेंटेड सड़क बनाई लेकिन अब पानी ओवरब्रिज के पास भर जाता है।

शहर के ड्रेनेज सिस्टम की नहीं हो सकी सफाई

नगर निगम और सिंचाई विभाग जून के अंत तक सफाई की प्लानिंग में था, लेकिन मानसून ने दस्तक अभी दे दी है। निगम नालों की सफाई का 45 प्रतिशत कार्य नहीं कर पाया है। शहर के बीच ड्रेन पर चार साल से इसे कवर व पक्का करने का कार्य अधूरा है। निकासी के लिए साइड से चैनल बनाया है जोकि बरसात में दिक्कत पैदा करेगा।

यहां तो पानी भरना तय: सेक्टर 15 में सीवर ही माध्यम, सफाई की दिक्कत

पानी की निकासी के लिए स्टॉर्म वाटर ड्रेनेज सिस्टम को डेवलप कर दिया था। हुडा में पानी की निकासी के लिए सीवर ही माध्यम हैं। सेक्टर-15 में डीएवी स्कूल व मार्केट के आसपास के क्षेत्र में बारिश में जलभराव हो जाता है। सेक्टरों में 200 किमी लंबी सीवर लाइन है।

इन स्थानों पर होता है जलभराव

  • शहर के शनि मंदिर अंडरब्रिज
  • छोटूराम चौक
  • सुभाष स्टेडियम
  • पंचायत भवन के सामने
  • सारंग रोड पर गीता भवन से पूरा इकट्‌ठा हो जाता है
  • सेक्टर- 15
  • डबल स्टोरी
  • इंडस्ट्रियल एरिया
  • ओल्ड डीसी रोड
  • सब्जी मंडी व अनाज मंडी
  • रोहतक रोड आरओबी
  • गीता भवन चौक आदि।

बरसात को लेकर पूरी तरह से तैयार हैं : डीआरओ

​​​​​​​बरसात से निपटने के लिए पूरी तरह से तैयार हैं। अपने स्तर पर हमने तैयारी पूरी कर ली है। अगर सिंचाई विभाग और नगर निगम द्वारा निर्धारित समय पर काम पूरा कर लिया जाता है तो किसी प्रकार की समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा। इसके बावजूद भी हमने पूरी व्यवस्था की है। जलभराव से कोई दिक्कत नहीं होने दी जाएगी। हम पूरा प्रयास कर रहे हैं। मनवीर सिंह सांगवान, डीआरओ सोनीपत

जिले में बाढ़ नियंत्रण की यह तैयारी

  • बाढ़ नियंत्रण कक्ष की स्थापना कर दी गई है। जानकारी देने के लिए कोई भी 0130-2221590 पर फोन कर सेवा ले सकता है। इस नंबर पर 24 घंटे कर्मचारी कार्यरत रहेंगे।
  • सिंचाई व जनस्वास्थ्य विभाग के माध्यम से पानी निकासी के लिए 68 क्यूसिक के 34 मोबाइल डीजल पंप, 28 इलेक्ट्रिक पंप और 26 परमानेंट पंप की व्यवस्था की गई है।
  • गोहाना में 35 डीजल मोबाइल पंप, 68 क्यूसिक के 28 इलेक्ट्रिक पंप, 20 हॉर्स पावर के 30 पंप और 29 परमानेंट की व्यवस्था की गई है।
  • जनस्वास्थ्य विभाग सोनीपत डिवीजन द्वारा फिक्स इलेक्ट्रिक पंप और डिवीजन नंबर-दो द्वारा चार पंप की व्यवस्था की गई है।
  • नगर निगम सोनीपत द्वारा जलभराव से निपटने के लिए 304 कर्मचारी, 11 मोटर की व्यवस्था की गई है।

Source

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *