खींचतान में लटका विकास:विकास तो दूर शहर के लिए 3 माह में बजट भी नहीं हुआ पास

ब्रेकिंग न्यूज़ राजनीति सोनीपत

नगर निगम के जन प्रतिनिधियों एवं निगम अधिकारियों की आपसी खिंचतान में शहर का विकास अटक गया है। पहला चुनाव होने के बाद से पार्षद विकास के लिए बातें कर रहे हैं लेकिन हाल के 3 माह में तो स्थिति यह है कि निगम अपना बजट तक मंजूर नहीं करवा सका है। असर यह है कि निगम की गाड़ियों की मरम्मत तक नहीं करवा पा रहा है।

यही नहीं कार्यालय के लिए स्टेशनरी एवं फर्नीचर की खरीद पर भी अभी रोक है। निगम की ओर से पहले अधिकारियों ने समय पर बजट नहीं दिया, फिर वर्चुअल बैठक के कारण पार्षदों ने उसका बहिष्कार कर दिया, अब 7 जून को दोबारा बैठक बुलाई गई है।

31 मार्च तक पास होना चाहिए बजट: नगर निगम अधिनियम में यह प्रावधान है कि एक अप्रैल से पहले नए वित्त वर्ष का बजट कार्यकारिणी और सदन में 31 मार्च को पास कर लिया जाए। लेकिन ऐसा नहीं हुआ। इसको लेकर पहले ढिलाई हुई और फिर लॉकडाउन हो गया। इससे वित्तीय समस्या पैदा हुई थी।

ठेकेदारों का भुगतान भी हो रहा लेट: बजट पास न हो पाने के कारण देनदारी की सूची पर भी मोहर नहीं लग पा रही। ऐसे में जो ठेकेदार नया वित्तीय वर्ष शुरू होने के बाद बकाया भुगतान जल्द मिलने की उम्मीद लगाए हैं, उन्हें भी इंतजार करना पड़ेगा। इससे ठेकेदारों के माध्यम से नालों व सीवर सफाई व अन्य कार्य प्रभावित हो सकते हैं।

हाल ए निगम: ऐसे तो विकास हो चुका

  • पहली हाउस बैठक दो महीने तक सिर्फ इसलिए अटकी रही क्योंकि वार्ड पार्षद अपने कार्य की रिपोर्ट तैयार नहीं कर सके।
  • बजट हाउस की बैठक के लिए पार्षदों ने कई बार मांग रखी, लेकिन इस बार निगम अधिकारियों ने लापरवाही बरती, वे अपने बजट नहीं दे सकें। इसके लिए अकाउंट शाखा की ओर से नोटिस भी दिए गए।
  • दस मई को निगम अधिकारियों ने वर्चुअल मीटिंग रखी, जिसका वार्ड पार्षदों एवं मेयर ने अनदेखी का आरोप लगाते हुए उसका बहिष्कार कर दिया।

230 करोड़ का प्रस्तावित है बजट
नगर निगम ने नए वित्त वर्ष के विकास के बजट में कटौती की गई है। पिछले साल नगर निगम ने 260 करोड़ रुपए की कमाई का लक्ष्य रखा था, लेकिन तमाम प्रयासों के बावजूद 88 करोड़ हुई। नए वित्त वर्ष के लिए नगर निगम ने 230 करोड़ का बजट तय किया है। इसमें निगम में आने वाले ग्रांट की राशि को इस बार शामिल नहीं किया गया है। जिस कारण हर साल भारी भरकम दिखने वाला निगम का बजट इस बार छोटा रह गया हैं।

इसलिए माने पार्षद

  • पिछली बार निगम की ओर से बजट से संबंधित आंकड़े भी नहीं दिए गए थे, लेकिन इस बार दिया जा रहा है
  • पिछली बार 50 लोगों की अनुमति थी जबकि इस बार सरकार की ओर से एक स्थान पर अधिकतम 11 ही लोगों के होने की अनुमति है, ऐसे में सभी पार्षद, मेयर सहित निगम अधिकारियों की संख्या अधिक होने के कारण इस बार वर्चुअल मीटिंग ही संभव है।

बजट बैठक का नहीं होगा बहिष्कार: मेयर
जन प्रतिनिधियों ने तय किया है कि इस बार वर्चुअल बैठक का बहिष्कार नहीं करेंगे, क्योंकि विकास कार्य रुके हैं। बैठक में विकास के मुद्दे भी रखे जाएंगे। निगम की ओर से अगले महीने एक और बैठक शहर के रू के हुए विकास कार्यों को लेकर रखी जाएगी। पहले पार्षदों के कुछ मुद्दे थे, उन्हें दूर करने के प्रयास किए जा रहे हैं। निखिल मदान, मेयर, नगर निगम, सोनीपत।

कोई गतिरोध नहीं, सात जून को होगी बैठक
नगर निगम की बजट को लेकर बैठक के लिए सभी पार्षदों को सूचित कर दिया गया है। यह बैठक सात जून को होगी। बजट पास होने के बाद विकास कार्यों में और गति आएगी। किसी प्रकार का गतिरोध नहीं है।
सुभाष चन्द्र, संयुक्त आयुक्त, नगर निगम, सोनीपत।

Source

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *